क्रिप्टो करेंसी क्या है?

आसान भाषा में कहें तो (Cryptocurrency) एक (Digital Money) है, जो कम्प्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है. यह सिर्फ डिजिट के रूप में ऑनलाइन रहती है. इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है.

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी?

Cryptocurrency दो शब्दों से मिलकर बना शब्द है. Crypto जोकि लैटिन भाषा का शब्द है जो cryptography से बना है और जिसका मतलब होता है, छुपा हुआ/हुई. जबकि Currency भी लैटिन के currentia से आया है, जो कि रुपये-पैसे के लिए इस्तेमाल होता है. तो क्रिप्टोकरेंसी का मतलब हुआ छुपा हुआ पैसा. या गुप्त पैसा। क्रिप्टोकरेंसी एक तरह का डिजिटल पैसा है, जिसे आप छू तो नहीं सकते, लेकिन रख सकते हैं. यानी यह मुद्रा का एक डिजिटल रूप है. यह किसी सिक्के या नोट की तरह ठोस रूप में आपकी जेब में नहीं होता है. यह पूरी तरह से ऑनलाइन होता है.

बिटकॉइन क्या है और किसने की थी इसकी शुरुआत?

इसे आसान भाषा में ऐसे समझिए कि हर देश की अपनी मुद्रा (Currency) है. जैसे कि भारत के पास रुपया, अमेरिका के पास डॉलर, सउदी अरब के पास रियाल, इंग्लैंड के पास यूरो है. हर देश की अपनी-अपनी करेंसी हैं. यानी एक ऐसी धन-प्रणाली जो किसी देश द्वारा मान्य हो और वहां के लोग इसके इस्तेमाल से जरूरी चीजें खरीद सकते हों. यानी जिसकी कोई वैल्यू हो, करेंसी (Currency) कहलाती है.

कैसे काम करती है Cryptocurrency?

पिछले कुछ सालों से क्रिप्टोकरेंसी मुद्राओं की लोकप्रियता बढ़ी है. इन्हें ब्लॉकचेन सॉफ़्टवेयर के ज़रिए इस्तेमाल किया जाता है. ये डिजिटल मुद्रा इनक्रिप्टेड यानी कोडेड होती हैं. इसे एक डिसेंट्रेलाइज्ड सिस्टम के जरिए मैनेज किया जाता है. इसमें प्रत्येक लेन-देन का डिजिटल सिग्नेचर द्वारा वेरिफिकेशन होता है. क्रिप्टोग्राफी की मदद से इसका रिकॉर्ड रखा जाता है. क्षितिज बताते हैं कि इसके जरिए खरीदी को क्रिप्टो माइनिंग (Cryptocurrency Mininig) कहा जाता है क्योंकि हर जानकारी का डिजिटल रूप से डेटाबेस तैयार करना पड़ता है. जिनके द्वारा यह माइनिंग की जाती है, उन्हें माइनर्स कहा जाता है.

UPSTOX DEMAT ACCOUNT OPENING LINK

आसान भाषा में और समझें तो क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारिक एक वर्चुअल करेंसी है जो क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित है. यह सारा काम पावरफुल कंप्यूटर्स के जरिए होता है. क्षितिज तो यहां तक कहते हैं कि इसके कोड को कॉपी करना लगभग नामुमकिन है. क्रिप्टोकरेंसी में जब भी कोई ट्रैंजेक्शन होता है तो इसकी जानकारी ब्लॉकचेन में दर्ज की जाती है, यानी उसे एक ब्लॉक में रखा जाता है. इस ब्लॉक की सिक्योरिटी और इंक्रिप्शन का काम माइनर्स का होता है. इसके लिए वे एक क्रिप्टोग्राफिक (Cryptographic) पहेली को हल कर ब्लॉक के लिए उचित Hash (एक कोड) खोजते हैं. जब कोई माइनर पुख्ता hash खोजकर ब्लॉक सिक्योर कर देता है तो उसे ब्लॉकचेन से जोड़ दिया जाता है और नेटवर्क में दूसरे नोड (Compuers) के जरिए उसे वेरिफाई किया जाता है. इस प्रक्रिया को आम सहमति (consensus) कहा जाता है. अगर consensus हो गया समझिए ब्लॉक के सिक्योर होने की पुष्टि हो गई. वह सही पाया जाता है तो उसे सिक्योर करने वाले माइनर को क्रिप्टोक्वॉइन (cryptocoin) दे दिए जाते हैं. यह एक रिवार्ड है जिसे काम का सबूत माना जाता है.

SHARE MARKET DEMAT ACCOUNT OPENING LINK https://upstox.com/open-account/?f=FP6999

क्या कहती है भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी के बारे में?

हालांकि इस बात पर बहस होती रही है कि यह बबल स्पेस में है और किसी भी समय यह फट सकता है लेकिन बड़े पैमाने पर स्वीकृति और नए निवेशकों द्वारा प्रवेश करने से और अधिक वैल्युएबल हो गया है. भरोसा तो करना ही पड़ेगा क्योंकि कई देश अब अपनी क्रिप्टोकरेंसी लाने पर विचार कर रहे हैं. पहले सरकार इसे बैन करने पर विचार कर रही थी, लेकिन अब इसमें नरमी देखी गई है.

क्रिप्टो के साथ क्या-क्या किया जा सकता है?


जुलाई को क्रिप्टोकरेंसी से दुनिया का सबसे महंगा हीरा खरीदा गया है. इससे साफ हो गया है कि इससे भौतिक चीजें भी भविष्य में खरीदी जा सकेंगी. हालांति क्रिप्टोकरेंसी को नोट और सिक्कों के रूम में प्रिंट नहीं किया जा सकता है. लेकिन फिर भी इसकी अपनी वैल्यू है. Cryptocurrency से आप सामान खरीद सकते हैं, Trade कर सकते हैं और इन्वेस्ट कर सकते हैं, लेकिन अपनी तिजोरी में नहीं रख सकते. न ही बैंक के लॉकर में रख सकते हैं. क्योंकि यह Digits के रूप ऑनलाइन रहती है. इसे डिजिटल मनी, वर्चुअल मनी और इलेक्ट्रॉनिक मनी भी कहा जाता है. इसकी वैल्यू फिजिकल करेंसी से कहीं ज्यादा है. कुछ टॉप क्रिप्टोकरेंसी की वैल्यू तो डॉलर से भी हजारों गुना ज्यादा है.

क्रिप्टो कैसे खरीदें और बेचें?

इस सवाल का जवाब भी अब आसान हो गया है. बढ़ती लोकप्रियता के चलते अब बाजार में ढेरो क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म्स हैं. ऐसे में देश में Bitcoin और Dogecoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना और बेचना काफी आसान है. पॉपुलर प्लेटफॉर्म्स में WazirX, Zebpay, Coinswitch Kuber और CoinDCX GO के नाम शामिल हैं. इन्वेस्टर्स Coinbase और Binance जैसे इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म्स से Bitcoin, Dogecoin और Ethereum जैसी दूसरी क्रिप्टोकरेंसी भी खरीद सकते हैं.

सबसे खास बात यह है कि खरीदारी के ये सभी प्लेटफॉर्म चौबीसों घंटे खुले रहते हैं. क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया भी काफी आसान है. आपको केवल इन प्लेटफॉर्म्स पर साइन अप करना होगा. इसके बाद अपना KYC प्रोसेस पूरा कर वॉलेट में मनी ट्रांसफर करना होगा. इसके बाद आप खरीदारी कर पाएंगे.
ये थी क्रिप्टोकोर्रेंसी की जानकारी, अगर आप इसी तरह क्रिप्टोकोर्रेंसी से रिलेटेड आर्टिकलस पढ़ना चाहते है तो इस ब्लॉग को फॉलो करना न भूले।

What is Crypto Currency?

Simply put, (Cryptocurrency) is a (Digital Money), which is built on computer algorithms. It stays online only in Digit form. There is no control of any country or government on this.

What is cryptocurrency?

Cryptocurrency is a word made up of two words. Crypto which is a Latin word derived from cryptography and which means hidden / hidden. Whereas currency also comes from Latin currentia, which is used for money-money. So cryptocurrency means hidden money. or secret money. Cryptocurrency is a type of digital money, which you cannot touch, but you can keep. That is, it is a digital form of currency. It is not in your pocket in a solid form like a coin or note. It happens completely online.

What is bitcoin and who started it?

Understand it in simple language in such a way that every country has its own currency. Like India has Rupee, America has Dollar, Saudi Arabia has Rial, England has Euro. Every country has its own currency. That is, such a money-system which is valid by a country and the people there can buy essential things using it. That is, which has any value, it is called currency.

How does Cryptocurrency work?

The popularity of cryptocurrency currencies has increased over the past few years. They are used through blockchain software. These digital currencies are encrypted ie coded. It is managed through a decentralized system. In this, each transaction is verified by digital signature. Its records are kept with the help of cryptography. Buying through this is called Cryptocurrency Mining because every information has to be created digitally in the database. Those who do this mining are called miners.

To understand more in simple language, cryptocurrency is a virtual currency based on blockchain technology which is secured by cryptography. All this work is done through powerful computers. Crypto experts even say that it is almost impossible to copy its code.Whenever a transaction occurs in cryptocurrency, its information is recorded in the blockchain, that is, it is kept in a block. The work of security and encryption of this block is done by the miners. For this, they solve a cryptographic puzzle and find the appropriate Hash (a code) for the block. When a miner secures a block by finding a strong hash, it is added to the blockchain and verified by other nodes in the network. This process is called consensus. If the consensus is reached, the block is confirmed to be secure. If it is found to be correct, then cryptocoin is given to the miner who secures it. It is a reward which is considered to be proof of work.

What does the Indian government say about cryptocurrencies?

Although it has been debated that this bubble is in space and can burst at any time, it has become more valuable with the widespread acceptance and entry by new investors. It has to be trusted because many countries are now considering bringing their own cryptocurrencies. Earlier the government was contemplating to ban it, but now it has seen softness.

What can be done with crypto?

The world’s most expensive diamond has been bought with cryptocurrency in July. It has become clear from this that material things can also be bought from this in future. However cryptocurrencies cannot be printed in the room of notes and coins. But still it has its value. With Cryptocurrency, you can buy, trade and invest goods, but you cannot keep it in your vault. Nor can they be kept in the locker of the bank. Because it stays online in the form of Digits. It is also called digital money, virtual money and electronic money. Its value is much more than the physical currency. Some of the top cryptocurrencies are worth thousands of times more than a dollar.

How to buy and sell crypto?

The answer to this question has also become easy now. Due to the increasing popularity, there are now many crypto exchange platforms in the market. In such a situation, it is quite easy to buy and sell cryptocurrencies like Bitcoin and Dogecoin in the country. Popular platforms include WazirX, Zebpay, Coinswitch Kuber and CoinDCX GO. Investors can also buy other cryptocurrencies such as Bitcoin, Dogecoin and Ethereum from international platforms such as Coinbase and Binance.

The most important thing is that all these shopping platforms are open round the clock. The process of buying and selling cryptocurrencies is also quite easy. All you need to do is sign up on these platforms. After this, after completing your KYC process, money will have to be transferred to the wallet. After that you will be able to shop.
This was cryptocurrency information, if you want to read similar articles related to cryptocurrency, then do not forget to follow this blog.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *